कविता(परिक्षा छाडी नारा लाए मार्कसिटमा तारा पाए) – शर्मा जि प्युठान

सोमबार, १७ बैशाख २०७५    RSS    142 पटक पढिएको



कविता(परिक्षा छाडी नारा लाए मार्कसिटमा तारा पाए) – शर्मा जि प्युठान

कविता

कतिले सभासद पाए
कतिले मन्त्री खाए
धेरैले नारा लगाए
थोरैले कमिसन पडकाए
अरुले के पाए
मैले के पाए
परिक्षा छाडि नारा लाए
मार्कसिटमा तारा पाए

कतिले प्रमोसन खाए
कतिले सरुवा पाए
धेरैले क्वाटर धाए
थोरैले काम बनाए
अरुले के खाए
मैले के खाए
बाउआमाको गाली पाए
मार्कसिटमा तारा खाए

कतिले ब्रीफकेस बोके
कतिले खुट्टामै ढोगे
चुनाब अगि धेरै खोके
अचेल चिन्नै छाडे
अरुले के बोके
मैले के बोके
उफ्रि उफ्रि झन्डा छोपे
मार्कसिटमा तारा बोके

पैसाको खोलो बगाए
बिजयको माला लगाए
सोझा जनता ठगाए
आफ्नै भाग लगाए
अरुले के भेट्याए
मैले के भेट्याए
ठुला ठुला सपना देखाए
मार्कसिटमा तारा भेट्याए

शर्मा जि
प्युठान


प्रतिकृया दिनुहोस